Soulgasm

To Quill the Mocking World

नए रास्ते


Arpit Arya
(3 min read)

www.freepix4all.com

कागज़  के  पुलिंदों  को  यूँ  इस  कदर  खोलता ,

अपने  नए  रास्ते  ढूंढता  चला  गया ,

मंज़िल नज़दीक  नही , दूर  तलक  जाना  है ,

बस  एक  कदम  और  मन  को  समझाता  हुआ  चला  गया ,

होती  है   बेचैनी   इस  कदर  कभी  कभी  की  ,

रुक  जाता  था  कहीं , थम  जाता  था  कभी ,

तू  उठ  जा  एक  बार  , फिर  इस  पगले  दिल  को  समझाता   चला  गया ,

होंसला  ना  टूटे   कभी   , हिम्मत  ना  छूट  जाए कहीं ,

 यहीं  सोच  के  रोज़  इक्क  नया  कदम  बढ़ाता  चला  गया ..

छुपा  लेता  था  इन्ह  नम  आँखों  को  सभी  से ,

रोते  हुए  हर्फ़  इन्  कागजों  पर  उतरता  चला  गया ,

खो  जॉन  अपने  ख़्यालों में कहीं 

दूर  इस   फरेबी   दुनिया  से  भाग  जाऊ  कहीं ,

थक  के  फिर  उस  पलंग   पे  निंदिया  में  चला  गया ,

उठा  जब  सुबह  तोह  नया  ज़ज़्बा  ,इक   नयी  उड़ान  की  और  चल  दिया  ,

सोचा  हो  कुछ  अच्छा  चाहे  हो  बुरा   , अनुभव  की   पोटली  में  दान  डालता  हुआ  चला  गया ,

चला  जो  राह  में  कुछ  हँसते   हुए  बच्चे  दिखे  , इन्  नन्ही  सी  हसरतों  को  दिल  में  समाता  चला  गया 

रुक्सत   हो  जाऊंगा  इन्  ख्यालों  से  कभी  , फना  सी   हो  जाएंगी  यह  चलती  हुई  सांसें 

बस  यह  कतरा   कतरा  जज़्बातों  का  बहाता  हुआ  चला  गया ,

कि  आएंगे  अच्छे  दिन  हमारे  भी  कभी ,होंगे  मशहूर   इस  जहां  में ,  मुकाम  आकर  गिरेगा  क़दमों  में  कभी  , इस  चिल्म की  चिंगारी  से  आग  सुलगता  हुआ  चला  गया ,

सोच  कुछ  चला  ऐसे  जाए  की  इतिहास   के  पन्नो  में  अमर  हो  जाऊं ,                                          

 बस  इन्ही  रास्तों  पे  एक  गीत  नया  गाता   हुआ  चला  गया


Picture Credits

Arpit is a guest author at Soulgasm.

(Click here to read our first book “Mirrored Spaces” : A poetry and art anthology in English and Hindi with contributions from 22 artists)

Advertisements

2 comments on “नए रास्ते

  1. Shantanu Jain
    February 26, 2017

    Nice, Arpit. However, I would suggest you to proof read the poem once again from the perspective of spellings. There are quite a number of spelling errors here and there and if taken care, your poem will come out more gracefully.

    Like

  2. crisofngs
    February 28, 2017

    Hey check out my blog !

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Information

This entry was posted on February 25, 2017 by in Hindi, Poetry and tagged .

Blog Stats

  • 88,034 times visited

Top Rated

%d bloggers like this: