Soulgasm

To Quill the Mocking World

किताबें, कॉफ़ी, और कहानियां


By Shantanu Jain
(4 min read)

Soulgasm conducted an experiential poetry session called ‘Mirrored Spaces’ in Bangalore on 15th October. 

img_20161015_114331

यहाँ –

कुछ किताबें !

असल में, कुछ नहीं –

बहुत किताबें हैं !

आसपास कुछ लोग बैठे हैं !

लेखक लगते हैं –

दार्शनिक या विचारक से –

पर आम से !

एक सन्नाटा सा पसरा हुआ है !

खौफ़ वाला सन्नाटा नहीं –

सुकून वाला सन्नाटा !

ये लेखक अपने अंदर डूबे से –

मालूम पड़ते हैं !

एक अलग ही दुनिया में खोये लगते हैं –

और उस दुनिया से इस दुनिया का रास्ता –

स्याही से माप रहे हैं !

सोच रहा हूँ –

इस एक कमरे की हवा में –

कितनी ही कहानियाँ बह रही हैं !

महज़ किताबों में नहीं, बल्कि –

इन लोगों में !

कभी अपने में सिमटी और कभी –

इधर उधर तांक – झांक करती –

इनकी आँखों में !

सैकड़ों बातों से –

चिंताओं से घिरे –

इनके मस्तिष्क में !

न जाने कितनी ही वेदनाओं से जूझते –

स्मृतियों को समेटे –

इनके हृदय में !

कहानियाँ  ही कहानियाँ –

कहानियाँ  में कहानियाँ –

छोटी – छोटी कहानियाँ –

कभी न ख़त्म होने वाली कहानियाँ –

आम कहानियाँ –

ख़ास कहानियाँ-

उफ्फ !

जितना सोचता हूँ, उतना पाता हूँ –

एक व्यक्ति की सत्ता –

उसका अस्तित्व –

कितना विशाल, कितना विस्तृत है !

ऐसा लगता है, मानो –

यहाँ बैठा हर व्यक्ति-

हर लेखक –

अपने आप में आसमान है –

या उससे भी बढ़कर –

एक ब्रह्माण्ड –

जिसमें डूबे हुए हैं –

कितने ही सूरज –

कितने ही चाँद –

कितनी ही आकाश – गंगाएँ !

पर एक बात तो माननी होगी –

इस एक पल –

जब इनकी रूहें –

अपने ही अंदर कुछ टटोल -सा रही हैं –

तो एक अलग ही कांति,

एक अलग ही शांति,

एक अलग ही मुस्कान -सी –

मालूम पड़ती है –

इनके होठों पर !

पर, अब कुछ ही देर में –

ये अनजान लोग –

शायद फिर से अनजान हो जायेंगे !

बिखर जायेंगे!

और इनमे सिमटी कहानियाँ –

कुछ और सिमट जाएँगी –

कुछ नए रूख अपनाएंगी !

सोचता हूँ, काश!

क्या ऐसा कायनाती सुकून –

– कुछ देर और नहीं ठहर सकता था !


12697277_1013252335398572_4592141790055964860_o

A wanderer and teetotaler by choice (what an irony!), Shantanu finds solace in colors and words. He is mad about IISc, his post grad college and teaching. Hindi is what he feels most associated with , the credit of which he gives to “her”.

Click here to read Shantanu’s posts.

(Click here to read our first book “Mirrored Spaces” : A poetry and art anthology in English and Hindi with contributions from 22 artists)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Information

This entry was posted on October 29, 2016 by in Poetry and tagged .

Blog Stats

  • 86,905 times visited

Top Rated

%d bloggers like this: